Home » हरिशंकर परसाई के राजनैतिक व्यंग्य-3 (Hindi Satire): Harishankar Parsai Ke Rajnaitik Vyangya-3 (Hindi Satire) by Harishankar Parsai
हरिशंकर परसाई के राजनैतिक व्यंग्य-3 (Hindi Satire): Harishankar Parsai Ke Rajnaitik Vyangya-3 (Hindi Satire) Harishankar Parsai

हरिशंकर परसाई के राजनैतिक व्यंग्य-3 (Hindi Satire): Harishankar Parsai Ke Rajnaitik Vyangya-3 (Hindi Satire)

Harishankar Parsai

Published April 23rd 2014
ISBN :
Kindle Edition
44 pages
Enter the sum

 About the Book 

यह पुसतक हिनदी के अनयतम वयंगयकार हरिशंकर परसाई के वयंगय-निबंधों का संकलन है। शायद ही हिनदी साहितय की किसी अनय हसती ने साहितय और समाज में जड जमाने की कोशिश करती मरणोनमुखता पर इतनी सतत, इतनी करारी चोट की होMoreयह पुस्तक हिन्दी के अन्यतम व्यंग्यकार हरिशंकर परसाई के व्यंग्य-निबंधों का संकलन है। शायद ही हिन्दी साहित्य की किसी अन्य हस्ती ने साहित्य और समाज में जड़ जमाने की कोशिश करती मरणोन्मुखता पर इतनी सतत, इतनी करारी चोट की हो